Skip to main content

झीरम: फिर वही कहानी



माओवादी हमला
नक्सल मोर्चे पर और कितने दावे? और कितने संकल्प? और कितनी जानें? क्या खोखले दावों और संकल्पों का सिलसिला यूं ही चलता रहेगा और निरपराध मारे जाते रहेंगें? राज्य बनने के बाद, पिछले 13 वर्षों में जब- जब नक्सलियों ने बड़ी वारदातें की, सत्ताधीश नक्सलियों से सख्ती से निपटने के संकल्पों को दोहराते रहे. चाहे वह प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री अजीत जोगी हों या वर्तमान मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह जिनके हाथों में तीसरी बार सत्ता की कमान है.
नक्सलियों से युद्ध स्तर पर निपटने की कथित सरकारी तैयारियों के बखान के बावजूद राज्य में न तो नक्सलियों का कहर कम हुआ, न ही घटनाओं में उल्लेखनीय कमी आई और न ही नक्सलियों के हौसले पस्त हुए. उनका सूचना तंत्र कितना जबरदस्त है उसकी मिसाल यद्यपि अनेक बार मिल चुकी है, लेकिन ताजा वाकया ऐसा है जो उनके रणनीतिक कौशल का इजहार करता है.
राज्य के पुलिस तंत्र में बडे- बड़े ओहदों पर बैठे अफसरों ने शायद ही कभी सोचा हो कि जीरम घाटी में कभी दोबारा हमला हो सकता है. पिछले वर्ष 25 मई को इसी घाटी में नक्सलियों ने कांग्रेसियों के काफिले पर हमला किया था जिसमे 31 लोग मारे गए थे. देश में किसी राजनीतिक पार्टी के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं पर यह सबसे बड़ा हमला था. इस हमले में कांग्रेस के दिग्गज नेता विद्याचरण शुक्ल, नेता प्रतिपक्ष रहे महेन्द्र कर्मा एवं प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष नंदकुमार पटेल मारे गए थे. उसी जीरम घाटी में एक बार फिर नक्सलियों ने योजनाबद्ध तरीके से सीआरपीएफ की सर्चिंग पार्टी पर हमला किया. इस हमले में 16 जवान शहीद हुए.
पिछले महीने ही नक्सलियों ने दो अलग अलग घटनाओं में सात सीआरपीएफ के जवानों को मौत के घाट उतारा था. पिछले वर्षों में पुलिस एवं अर्द्ध सैनिक बलों के गश्ती दलों पर दर्जनों छिटपुट हमले हुए हैं जिसमें कई जवानों की जाने गई हैं. 11 मार्च 2014 को संयुक्त गश्ती दल पर किया गया हमला इसी श्रृंखला की अगली कड़ी है.
पुलिस प्रशासन लगातार इस बात की दुहाई देता रहा है कि आपरेशन ग्रीन हंट, राज्य पुलिस बल एवं अर्द्धसैनिक बलों की बस्तर में मौजूदगी एवं उनकी सख्ती से नक्सलियों के पैर उखड़ते जा रहे हैं.
यह भी कहा गया बस्तर के आदिवासियों का विश्वास खोने एवं पुलिस बल की सक्रियता से नक्सली बौखला गए हैं. इसी बौखलाहट में वे जवानों पर हमले कर रहे हैं तथा मुखबिरी के शक में आदिवासियों की हत्याएं कर रहें है. पुलिस का यह भी दावा है कि नक्सलियों के शहरी नेटवर्क को ध्वस्त करने में उसे जबरदस्त कामयाबी मिली तथा नक्सलियों की तगड़े घेरेबंदी एवं मुठभेड़ों की वजह से उसके कई कमाण्डर या तो मारे गए या उन्होंने आत्मसर्मपण किया.
राज्य पुलिस के इस दावे को सच मायने में कोई बुराई नही है क्योंकि कुछ घटनाएं इसकी साक्षी हैं. लेकिन खुफिया तंत्र का क्या? क्या राज्य की पुलिस यह दावा कर सकती है कि उसका सूचना तंत्र, उसका खुफिया नेटवर्क नक्सलियों से ज्यादा मजबूत और विस्तारित है? यकीनन अगर ऐसा होता तो छत्तीसगढ़ में बड़ी तो कौन कहे, छोटी मोटी वारदातें भी नहीं होती और न ही नक्सलियों की जनअदालतें लग पातीं जिसका मूल उद्देश्य आदिवासियों के मन में खौफ पैदा करना है और वे इसमे कामयाब भी है.
दरअसल इसका सच क्या है, सामने है. पिछले वर्ष जीरम घाटी में मौत का तांडव पुलिस की खुफिया तंत्र की विफलता का परिणाम था. और अब पुन: इसी घाटी में सीआरपीएफ की सर्चिंग पार्टी पर हमले से पुन: यह सिद्ध होता है कि पुलिस के पास मुखबिरों का अकाल है, उसका सूचना तंत्र कमजोर है और उसमें दूरदृष्टि का भी अभाव है.
जाहिर है नक्सलियों ने पुलिस प्रशासन की इसी कमजोरी का फायदा उठाया. उन्हें अहसास था कि पुलिस यह कल्पना भी नहीं कर सकती कि जीरम घाटी में दोबारा हमला हो सकता है. इसलिए उन्हें अपनी योजना को मूर्त रूप देने में कोई कठिनाई नहीं हुई. यह सचमुच आश्चर्यजनक है कि तीन सौ से अधिक नक्सली एक बड़े हमले में शामिल होने के लिए तेज गतिविधियां कर रहे हों और पुलिस को किसी छोर से इसकी कोई खबर न मिलती हो. नक्सली इत्मीनान से सड़कों पर बारूद सुरंगें बिछाते हों, पेड़ काटकर रास्ता रोकते हों और पुलिस को इसकी हवा तक न लगती हो. जबकि राज्य की पुलिस संचार के आधुनिक संसाधनों से लैस है.
स्पष्ट है, पुलिस लापरवाह है और नक्सल मोर्चे पर वह फिसड्डी है. यदि ये सब चीजें तंदुरूस्त होती तो जीरम घाटी कभी रक्तरंजित नही होती न ही बस्तर में नक्सली अपने इरादों में कामयाब होते. 11 मार्च को जीरम में ताजा हमले के बाद जैसा कि अमूमन होता है, सरकार फिर चैतन्य हो जाएगी, चिंता जाहिर करेगी, विचार विमर्श के लिए उच्च स्तरीय बैठकें होंगी, नक्सलियों से सख्ती से निपटने का संकल्प लिया जाएगा, जोश जोश में बस्तर में तेज कार्रवाई भी की जाएगी, नक्सलियों की धरपकड़ भी होगी लेकिन धीरे- धीरे जोश ठंडा पड़ता जाएगा और पुलिस फिर पहले जैसी पुलिस हो जाएगी, गाफिल और गैरजिम्मेदार.

Comments

Popular posts from this blog

पत्थलगड़ी पर सियासत

दिवाकर मुक्तिबोध    छत्तीसगढ़ में रमन सरकार की तीसरी कार्यकाल जो आगामी नवंबर में पूरा हो जाएगा, राजनीतिक झंझवतों से घिरा रहा है। जिन चुनौतियों का सामना पार्टी एवं सरकार को इस बार करना पड़ रहा है। वैसी चुनौतियां पिछले चुनाव के दौरान भी मौजूद थी किन्तु वे इतनी उग्र नहीं थी। सत्ता विरोधी लहर के तेज प्रवाह के साथ-साथ प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस का पुर्नजीवित होना, उसके धारदार हमले, संगठन की सक्रियता, नेताओं व कार्यकर्ताओं की एकजुटता तो अपनी जगह है ही, बड़ी वजह है विभिन्न मोर्चों पर राज्य सरकार की नाकामी एवं जन असंतोष का विस्फोट। कम से कम गत दो वर्षों से सत्ता एवं संगठन को विभिन्न जनआंदोलनों का सामना करना पड़ा है जिन्हें ऐन-केन प्रकारेण दबाने में सरकार को सफलता जरुर मिली लेकिन राख के नीचे चिंगारियां धधकती रही है। चाहे आंदोलन लंबे समय से संविलियन के लिए संघर्ष कर रहे शिक्षा कर्मियों का हो या फिर किसानों, मजदूरों, बेरोजगार युवाओं एवं आदिवासियों का जिन्हें अपने हक के लिए शहरों एवं राजधानी की सड़कों पर बार-बार उतरना पड़ा है। समाधान किसी मोर्चे पर नहीं है। हालांकि आत्ममुग्धता की शिकार राज्य सरका…

अजीत जोगी का नया दाँव

-दिवाकर मुक्तिबोध
छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस की कमान मूलत: किसके हाथ में है ? अध्यक्ष अजीत जोगी के या उनके विधायक बेटे अमित जोगी के हाथ में? यह सवाल इसलिए उठा है क्योंकि अजीत जोगी चुनाव लड़ेंगे या नहीं, लड़ेंगे तो कहाँ से लड़ेंगे, यह पिता के लिए बेटा तय कर रहा है। कम से कम हाल ही में घटित एक दो घटनाओं से तो यही प्रतीत होता है। वैसे भी पुत्र-प्रेम के आगे जोगी शरणागत है। इसकी चर्चा नई नहीं, उस समय से है जब जोगी वर्ष 2000 से 2003 तक कांग्रेस शासित प्रदेश के मुख्यमंत्री थे। उनके उस दौर में अमित संविधानेत्तर सत्ता के केन्द्र बने हुए थे तथा उनका राजनीतिक व प्रशासनिक कामकाज में ख़ासा दख़ल रहता था। अब तो ख़ैर दोनों बाप-बेटे की राह कांग्रेस से जुदा है और दो वर्ष पूर्व गठित उनकी नई पार्टी ने छत्तीसगढ़ में अपनी जड़ें जमा ली है। यद्यपि कहने के लिए अजीत जोगी अपनी नई पार्टी के प्रमुख कर्ता-धर्ता हैं लेकिन कार्यकर्ता बेहतर जानते हैं कि अमित जोगी की हैसियत क्या है और संगठन में उनका कैसा दबदबा है। पिता-पुत्र के संयुक्त नेतृत्व में छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस अपना पहला चुनाव लड़ रही है। राज्य की 90 सीटों के ल…

मुक्तिबोध:प्रतिदिन (भाग-18)

अगर तुम्हें सचाई का शौक है
अगर तुम्हें सचाई का शौक है तो खाना मत खाओ तुम कहते हैं बुद्धिमान पहनो मत वस्त्र और रहो तुम वनवासी बर्बरों की स्थिति में सड़कों पर फेंक दो अपनों को बच्चों को वीरान सूरज की किरनों से घावों को सेंक लो दुनिया के किसी एक कोने में चुपचाप जहर का घूंट पी मर जाने के लिए माता-पिता त्याग दो अपनी ही जिन्दगी के सिर पर डाल तुम आग लो !! अगर तुम्हें सचाई का शौक है तो बीवी को दुनिया के जंगल में छोड़ दो मृत्यु के घनघोर अँधेरे को ओढ़ लो अगर तुम्हें सचाई का शैक है तो भूखों मर जाओ तुम स्वयं की देह पर केरोसीन डालकर आग लगा भवसागर पार कर जाओ तुम अगर तुम्हें जीने की गरज है तो शरण आओ हमारे  चरण में बैठ जाओ हमारी खटिया पर, पलंग पर लेट जाओ पैर यदि लम्बे हों ज्यादा तो उन्हें काट देंगे हम खटिया के बराबर-बराबर देह छाँट देंगे हम जाते हों हाथ तो उन्हें छाँट डालेंगे पलंग के बराबर-बराबर तुम्हें काट डालेंगे !! हमारी खाट बहुत छोटी है अगर न जम सको तो यह तुम्हारी किस्मत ही खोटी है दीर्घतर हमसे यदि दूर तक जाती हो दृष्टि - निकाल आँखे लेंगे हम कॉक की नयी आँखे बैठाकर काम तुमसे लेंगे हम हम जैसे खोटे स…