Skip to main content

मतदाता मौन लेकिन फैसले के लिए तैयार

मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने 8 नवंबर को खैरागढ़ विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न गांवों में जनसभाओं में भाषण करते हुए स्वीकार किया कि कड़ी परीक्षा है लेकिन हम हैट्रिक लगाएंगे। अब तक के चुनाव प्रचार के दौरान यह पहली बार है जब सत्ता के शीर्ष पर बैठा हुआ व्यक्ति स्वीकार कर रहा है कि मुकाबला आसान नहीं है और पार्टी को कांग्रेस से कड़ी टक्कर मिल रही है। इस कथन से यह भी अनुमान लगाया जा सकता है कि भाजपा किंचित घबराई हुई है और वह जीत के प्रति बेफिक्र नहीं है। उसे कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। 11 नवंबर को बस्तर संभाग एवं राजनांदगांव जिले की कुल 18 विधानसभा सीटों के लिए मत डाले जाएंगे। यही 18 सीटें कांग्रेस एवं भाजपा दोनों का भाग्य तय करेगी। इन 18 सीटों में से 13 सीटें आरक्षित हैं जबकि सामान्य सीटें सिर्फ 5 हैं। यानी 13 सीटों के भाग्यविधाता आदिवासी एवं अनुसूचित जाति के मतदाता हैं। इसमें बस्तर महत्वपूर्ण है जिसने पिछले चुनाव में 12 में से भाजपा के लिए 11 सीटें जीतकर सत्ता के द्वार खोले थे। लेकिन इस बार स्थितियां बदली हुई नजर आ रही हैं। मुकाबला एकतरफ नहीं है। बस्तर और राजनांदगांव में कांग्रेस ने इतने कांटे बिछा दिए हैं कि उनका चुभना तय है। कहां और कितने चुभेंगे, अनुमान लगाना कठिन है किंतु स्थितियां 8 दिसंबर को मतगणना के बाद स्पष्ट हो जाएंगी।

दरअसल इस बार मुद्दे उतने प्रभावी नहीं हैं जिनकी कि उम्मीद की जाती थी। फिर भी उनका असर तो है। भाजपा विकास के मुद्दे को जनता के सामने रख रही है पर बस्तर में वह प्रभावी नहीं है क्योंकि गांव तो गांव शहरों की भी हालत खराब है। इसलिए विकास का मुद्दा यहां नहीं चल रहा है। बल्कि भाजपा को सत्ता विरोधी लहर का जरूर सामना करना पड़ रहा है जो शहरों में ज्यादा प्रभावी है। बस्तर के ग्रामीण अंचलों में चेहरे भी प्रभावी नहीं हैं। उम्मीदवारों से कहीं ज्यादा अहमियत पार्टी के चुनाव चिन्हों की है। गरीब और अपढ़ आदिवासी, उम्मीदवारों को भले ही नाम से न पहचाने लेकिन पार्टी के चुनाव चिन्हों से वे अच्छी तरह परिचित हैं। वे कमल को भी जानते हैं और पंजे को भी। इसलिए इन इलाकों में वोट न नाम पर पड़ेंगे न काम पर, पड़ेंगे तो चुनाव चिन्ह पर। बस्तर में भाजपा यदि ताकतवर है तो केवल एक चावल के मुद्दे पर। मतदाता को सरकार की कोई योजना आकर्षित कर रही है तो वह है दो रुपए किलो चावल। जबकि कांग्रेस के भ्रष्टाचार या कुशासन जैसे मुद्दे गौण हैं, निष्प्रभावी हैं। लेकिन शहरों की ऐसी स्थिति नहीं है। शहरी मतदाता बदलाव की मानसिकता में है इसलिए सरकार के विकास का मुद्दा यहां ढेर है। लेकिन कुशासन का प्रश्न हावी है।

चूंकि मतदान की तिथि निकट है इसलिए समझा जा सकता है कि मतदाताओं ने तय कर लिया होगा कि उन्हें किसके पक्ष में वोट करना है, हालांकि वे मौन हैं। सन् 1977 के लोकसभा चुनाव में बस्तर के आदिवासी मतदाताओं ने कांग्रेस का सफाया कर दिया था। लेकिन सन् 80 के चुनाव में उसे फिर सिर आंखों पर बैठा लिया। यही स्थिति बाद में हुए विधानसभा चुनावों में हुई। यानी यह कहना कि बस्तर के आदिवासियों को भेड़ की चाल की तरह हांका जा सकता है, गलत है। मतदान के मामले में वे उतने ही जागरुक हैं जितने की शहरी। इसलिए न तो उन्हें बरगलाया जा सकता है, न ही प्रलोभित किया जा सकता है। बस्तर के सन्दर्भ में ही एक बात और महत्वपूर्ण है- चुनाव बहिष्कार का नक्सली फरमान और वोटों का प्रतिशत। चुनाव बहिष्कार का नक्सली फरमान और उंगलियां काट देने की धमकी नई नहीं है। सन् 2003 एवं 2008 में भी वे ऐसा कर चुके हैं। उन्होंने हिंसा भी की लेकिन इसके बावजूद वोट अच्छे पड़े खासकर 2008 के चुनाव में आश्चर्यजनक रूप से वोटों का प्रतिशत बढ़ा। सिर्फ नक्सल प्रभावित बीजापुर को छोड़कर शेष 11 सीटों पर भारी-भरकम वोटिंग हुई। यह कैसे संभव हुआ, यह अलग विषय है किंतु इस बार चुनाव आयोग की सख्ती और तगड़े चुनाव प्रबंध को देखकर ऐसा नहीं लगता कि पिछले प्रतिशत की पुनरावृत्ति होगी। यदि वोट कम गिरेंगे तो जाहिर है भाजपा को नुकसान होगा। 


इधर राजनांदगांव जिले में चुनाव समीकरण कुछ अलग तरह की तस्वीर पेश कर रहे हैं। यहां विकास, भ्रष्टाचार व कुशासन के बीच द्वंद्व है। जिले की 6 में से 4 सीटें सामान्य हैं जहां चेहरे महत्वपूर्ण है। चूंकि मुख्यमंत्री गृह जिले राजनांदगांव से चुनाव लड़ रहे हैं इसलिए भाजपा को उनकी छवि का अतिरिक्त लाभ है। जबकि कांग्रेस जीरम घाटी की घटना एवं भाजपा सरकार के दस साल को कुशासन बताकर मतदाताओं का मन बदलने की कोशिश कर रही है। कहना मुश्किल है कि उसे इसका कितना लाभ मिलेगा किंतु सत्ता-विरोधी लहर से वह कुछ ज्यादा ही आशान्वित है। पिछले चुनाव में कांग्रेस को 6 में से 2 सीटें मिली थीं। इस दफे आंकड़े निश्चितत: बदलेंगे। कुल मिलाकर पहले चरण की 18 सीटें दरअसल सत्ता की दहलीज है। यह देखना दिलचस्प होगा कि कड़ी चुनौती का सफलतापूर्वक सामना करते हुए पहला कदम कौन रखेगा- भाजपा या कांग्रेस।

Comments

Popular posts from this blog

पत्थलगड़ी पर सियासत

दिवाकर मुक्तिबोध    छत्तीसगढ़ में रमन सरकार की तीसरी कार्यकाल जो आगामी नवंबर में पूरा हो जाएगा, राजनीतिक झंझवतों से घिरा रहा है। जिन चुनौतियों का सामना पार्टी एवं सरकार को इस बार करना पड़ रहा है। वैसी चुनौतियां पिछले चुनाव के दौरान भी मौजूद थी किन्तु वे इतनी उग्र नहीं थी। सत्ता विरोधी लहर के तेज प्रवाह के साथ-साथ प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस का पुर्नजीवित होना, उसके धारदार हमले, संगठन की सक्रियता, नेताओं व कार्यकर्ताओं की एकजुटता तो अपनी जगह है ही, बड़ी वजह है विभिन्न मोर्चों पर राज्य सरकार की नाकामी एवं जन असंतोष का विस्फोट। कम से कम गत दो वर्षों से सत्ता एवं संगठन को विभिन्न जनआंदोलनों का सामना करना पड़ा है जिन्हें ऐन-केन प्रकारेण दबाने में सरकार को सफलता जरुर मिली लेकिन राख के नीचे चिंगारियां धधकती रही है। चाहे आंदोलन लंबे समय से संविलियन के लिए संघर्ष कर रहे शिक्षा कर्मियों का हो या फिर किसानों, मजदूरों, बेरोजगार युवाओं एवं आदिवासियों का जिन्हें अपने हक के लिए शहरों एवं राजधानी की सड़कों पर बार-बार उतरना पड़ा है। समाधान किसी मोर्चे पर नहीं है। हालांकि आत्ममुग्धता की शिकार राज्य सरका…

अजीत जोगी का नया दाँव

-दिवाकर मुक्तिबोध
छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस की कमान मूलत: किसके हाथ में है ? अध्यक्ष अजीत जोगी के या उनके विधायक बेटे अमित जोगी के हाथ में? यह सवाल इसलिए उठा है क्योंकि अजीत जोगी चुनाव लड़ेंगे या नहीं, लड़ेंगे तो कहाँ से लड़ेंगे, यह पिता के लिए बेटा तय कर रहा है। कम से कम हाल ही में घटित एक दो घटनाओं से तो यही प्रतीत होता है। वैसे भी पुत्र-प्रेम के आगे जोगी शरणागत है। इसकी चर्चा नई नहीं, उस समय से है जब जोगी वर्ष 2000 से 2003 तक कांग्रेस शासित प्रदेश के मुख्यमंत्री थे। उनके उस दौर में अमित संविधानेत्तर सत्ता के केन्द्र बने हुए थे तथा उनका राजनीतिक व प्रशासनिक कामकाज में ख़ासा दख़ल रहता था। अब तो ख़ैर दोनों बाप-बेटे की राह कांग्रेस से जुदा है और दो वर्ष पूर्व गठित उनकी नई पार्टी ने छत्तीसगढ़ में अपनी जड़ें जमा ली है। यद्यपि कहने के लिए अजीत जोगी अपनी नई पार्टी के प्रमुख कर्ता-धर्ता हैं लेकिन कार्यकर्ता बेहतर जानते हैं कि अमित जोगी की हैसियत क्या है और संगठन में उनका कैसा दबदबा है। पिता-पुत्र के संयुक्त नेतृत्व में छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस अपना पहला चुनाव लड़ रही है। राज्य की 90 सीटों के ल…

मुक्तिबोध:प्रतिदिन (भाग-18)

अगर तुम्हें सचाई का शौक है
अगर तुम्हें सचाई का शौक है तो खाना मत खाओ तुम कहते हैं बुद्धिमान पहनो मत वस्त्र और रहो तुम वनवासी बर्बरों की स्थिति में सड़कों पर फेंक दो अपनों को बच्चों को वीरान सूरज की किरनों से घावों को सेंक लो दुनिया के किसी एक कोने में चुपचाप जहर का घूंट पी मर जाने के लिए माता-पिता त्याग दो अपनी ही जिन्दगी के सिर पर डाल तुम आग लो !! अगर तुम्हें सचाई का शौक है तो बीवी को दुनिया के जंगल में छोड़ दो मृत्यु के घनघोर अँधेरे को ओढ़ लो अगर तुम्हें सचाई का शैक है तो भूखों मर जाओ तुम स्वयं की देह पर केरोसीन डालकर आग लगा भवसागर पार कर जाओ तुम अगर तुम्हें जीने की गरज है तो शरण आओ हमारे  चरण में बैठ जाओ हमारी खटिया पर, पलंग पर लेट जाओ पैर यदि लम्बे हों ज्यादा तो उन्हें काट देंगे हम खटिया के बराबर-बराबर देह छाँट देंगे हम जाते हों हाथ तो उन्हें छाँट डालेंगे पलंग के बराबर-बराबर तुम्हें काट डालेंगे !! हमारी खाट बहुत छोटी है अगर न जम सको तो यह तुम्हारी किस्मत ही खोटी है दीर्घतर हमसे यदि दूर तक जाती हो दृष्टि - निकाल आँखे लेंगे हम कॉक की नयी आँखे बैठाकर काम तुमसे लेंगे हम हम जैसे खोटे स…