Skip to main content

कांग्रेस : उम्मीदें भी आशंकाएं भी

दिलों की धड़कनों को तेज करने वाली घड़ी नजदीक आते जा रही है। 8 दिसम्बर को मतगणना शुरू होगी और शाम होने के पहले नई विधानसभा की तस्वीर स्पष्ट हो जाएगी। जनता के बीच कयासों का दौर अभी भी जारी है तथा कांग्रेस एवं भाजपा दोनों सरकार बनाने के प्रति आश्वस्त हैं। क्या होगा, कुछ कहा नहीं जा सकता लेकिन यह निश्चित है कि इस दफे का चुनावी युद्घ दोनों पार्टियों खासकर कांग्रेस के लिए 'निर्णायक' साबित होगा। वर्ष 2000 में म.प्र. से अलग होकर छत्तीसगढ़ के नया राज्य बनने एवं उसके बाद कांग्रेस की सत्ता के तीन वर्ष छोड़ दें तो बीते 10 वर्षों में पार्टी की सेहत बेहद गिरी है। पार्टी ने सन् 2003 का चुनाव गंवाया, सन् 2008 में भी वह सत्ता के संघर्ष में पराजित हुई। संगठन का ग्राफ दिनोंदिन नीचे उतरता चला गया। सार्वजनिक हितों के लिए संघर्ष का रास्ता छोड़कर नेतागण व्यक्तिगत महत्वकांक्षाओं की पूर्ति में इतने मस्त रहे कि उन्होंने पार्टी को बौना बना दिया। इतना बौना कि वह जनता की नजरों से भी उतरती चली गई। संगठन की दुर्दशा का आलम यह था कि निजी आर्थिक एवं राजनीतिक स्वार्थों के लिए अनेक कांग्रेसियों ने भाजपा के साथ गुप्त गठजोड़ करने से भी गुरेज नहीं किया। रात के अंधेरे में मंत्रियों के बंगले में मुलाकातों का दौर चलता था। इस गठजोड़ का सबूत इस बात से मिलता है कि दस वर्ष के भाजपा शासन में किसी कांग्रेसी का काम नहीं रुका बल्कि उन्हें प्राथमिकता के साथ निपटाया गया। राजधानी में गुप्त गठजोड़ की यह चर्चा इतनी आम थी कि राजनीति में दिलचस्पी रखने वाला हर दूसरा आदमी इस विषय पर बातें करता नजर आता था।

लगभग मुर्दा हो चले संगठन में जान तब पड़ी जब नंदकुमार पटेल को प्रदेश कांग्रेस की कमान सौंपी गई। पटेल ने पार्टी में नई ऊर्जा भरने की कोशिश की तथा वे अपने मकसद में कामयाब भी रहे। उन्होंने संगठन को फिर से खड़ा कर दिया। यदि जीरम घाटी नक्सली हमले में उनकी तथा उनके साथ तीन और शीर्ष नेताओं की जान नहीं जाती तो छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की उम्मीदों को और पंख लगते। आज आम चर्चाओं में कांग्रेसी जीत का दावा तो करते हैं परंतु सशंकित भी नजर आते हैं। यकीनन यदि जीरम घाटी हादसा न हुआ होता तो चुनाव में कांग्रेस अपने आप को और बेहतर स्थिति में पाती।

यह बात भी स्पष्ट है कि जीरम घाटी हादसे के बाद प्रदेश पार्टी ने केन्द्रीय नेतृत्व के निर्देश पर अपने आप को संभाला तथा जिस एकजुटता का परिचय दिया, उसकी वजह से छत्तीसगढ़ राज्य विधानसभा चुनाव में वह भाजपा के साथ बराबरी स्थिति में खड़ी दिखती है। लेकिन अब चुनाव के नतीजों पर उसकी सांसें अटकी हुई हैं। यदि कांग्रेस सरकार बनाने लायक सीटें जीत लेती है तो बल्ले-बल्ले और यदि ऐसा नहीं हो पाया तो संगठन की मनोदशा का अंदाज लगाना मुश्किल नहीं है। जाहिर है वह तीसरी हार झेलने की स्थिति में नहीं है। यह कहना ज्यादा उचित होगा कि रमन की हैट्रिक कांग्रेस को ध्वस्त करने की हैट्रिक होगी। यद्यपि 2018 के राज्य विधानसभा चुनाव पांच वर्ष बाद होंगे किंतु संगठन की दृष्टि से कांग्रेस के लिए ये वर्ष इतने भारी रहेंगे कि टूटे हुए मनोबल से पार्टी को उबार पाना उसके लिए अत्यंत दुष्कर होगा। यानी सन् 2013 के ये चुनाव कांग्रेस के लिए आक्सीजन की तरह है। यदि जीत की आक्सीजन उसे नहीं मिल पाई तो छत्तीसगढ़ से कांग्रेस की उम्मीदें लगभग खत्म हो जाएंगी क्योंकि प्रदेश में उसके पास कोई ऐसा जादुई नेतृत्व नहीं है जो उसके बिखराव को रोकने का सामथ्र्य रखता हो। फिर वही दृश्य नज़र आने लगेंगे जो बीते दशक के दौरान दिखते रहे हैं यानी जनहित के मुद्दों से किनारा, सत्ता पक्ष के साथ गुप्त समझौते, आपसी कलह, अनुशासनहीन आचरण, घृणा की हदों को स्पर्श करने वाली गुटबाजी तथा एक-दूसरे के खिलाफ सार्वजनिक रूप से टीका-टिप्पणियां। चुनाव के आईने में प्रदेश कांग्रेस का आज और कल स्पष्टत: महसूस किया जा सकता है।


Comments

Popular posts from this blog

पत्थलगड़ी पर सियासत

दिवाकर मुक्तिबोध    छत्तीसगढ़ में रमन सरकार की तीसरी कार्यकाल जो आगामी नवंबर में पूरा हो जाएगा, राजनीतिक झंझवतों से घिरा रहा है। जिन चुनौतियों का सामना पार्टी एवं सरकार को इस बार करना पड़ रहा है। वैसी चुनौतियां पिछले चुनाव के दौरान भी मौजूद थी किन्तु वे इतनी उग्र नहीं थी। सत्ता विरोधी लहर के तेज प्रवाह के साथ-साथ प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस का पुर्नजीवित होना, उसके धारदार हमले, संगठन की सक्रियता, नेताओं व कार्यकर्ताओं की एकजुटता तो अपनी जगह है ही, बड़ी वजह है विभिन्न मोर्चों पर राज्य सरकार की नाकामी एवं जन असंतोष का विस्फोट। कम से कम गत दो वर्षों से सत्ता एवं संगठन को विभिन्न जनआंदोलनों का सामना करना पड़ा है जिन्हें ऐन-केन प्रकारेण दबाने में सरकार को सफलता जरुर मिली लेकिन राख के नीचे चिंगारियां धधकती रही है। चाहे आंदोलन लंबे समय से संविलियन के लिए संघर्ष कर रहे शिक्षा कर्मियों का हो या फिर किसानों, मजदूरों, बेरोजगार युवाओं एवं आदिवासियों का जिन्हें अपने हक के लिए शहरों एवं राजधानी की सड़कों पर बार-बार उतरना पड़ा है। समाधान किसी मोर्चे पर नहीं है। हालांकि आत्ममुग्धता की शिकार राज्य सरका…

अजीत जोगी का नया दाँव

-दिवाकर मुक्तिबोध
छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस की कमान मूलत: किसके हाथ में है ? अध्यक्ष अजीत जोगी के या उनके विधायक बेटे अमित जोगी के हाथ में? यह सवाल इसलिए उठा है क्योंकि अजीत जोगी चुनाव लड़ेंगे या नहीं, लड़ेंगे तो कहाँ से लड़ेंगे, यह पिता के लिए बेटा तय कर रहा है। कम से कम हाल ही में घटित एक दो घटनाओं से तो यही प्रतीत होता है। वैसे भी पुत्र-प्रेम के आगे जोगी शरणागत है। इसकी चर्चा नई नहीं, उस समय से है जब जोगी वर्ष 2000 से 2003 तक कांग्रेस शासित प्रदेश के मुख्यमंत्री थे। उनके उस दौर में अमित संविधानेत्तर सत्ता के केन्द्र बने हुए थे तथा उनका राजनीतिक व प्रशासनिक कामकाज में ख़ासा दख़ल रहता था। अब तो ख़ैर दोनों बाप-बेटे की राह कांग्रेस से जुदा है और दो वर्ष पूर्व गठित उनकी नई पार्टी ने छत्तीसगढ़ में अपनी जड़ें जमा ली है। यद्यपि कहने के लिए अजीत जोगी अपनी नई पार्टी के प्रमुख कर्ता-धर्ता हैं लेकिन कार्यकर्ता बेहतर जानते हैं कि अमित जोगी की हैसियत क्या है और संगठन में उनका कैसा दबदबा है। पिता-पुत्र के संयुक्त नेतृत्व में छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस अपना पहला चुनाव लड़ रही है। राज्य की 90 सीटों के ल…

मुक्तिबोध:प्रतिदिन (भाग-18)

अगर तुम्हें सचाई का शौक है
अगर तुम्हें सचाई का शौक है तो खाना मत खाओ तुम कहते हैं बुद्धिमान पहनो मत वस्त्र और रहो तुम वनवासी बर्बरों की स्थिति में सड़कों पर फेंक दो अपनों को बच्चों को वीरान सूरज की किरनों से घावों को सेंक लो दुनिया के किसी एक कोने में चुपचाप जहर का घूंट पी मर जाने के लिए माता-पिता त्याग दो अपनी ही जिन्दगी के सिर पर डाल तुम आग लो !! अगर तुम्हें सचाई का शौक है तो बीवी को दुनिया के जंगल में छोड़ दो मृत्यु के घनघोर अँधेरे को ओढ़ लो अगर तुम्हें सचाई का शैक है तो भूखों मर जाओ तुम स्वयं की देह पर केरोसीन डालकर आग लगा भवसागर पार कर जाओ तुम अगर तुम्हें जीने की गरज है तो शरण आओ हमारे  चरण में बैठ जाओ हमारी खटिया पर, पलंग पर लेट जाओ पैर यदि लम्बे हों ज्यादा तो उन्हें काट देंगे हम खटिया के बराबर-बराबर देह छाँट देंगे हम जाते हों हाथ तो उन्हें छाँट डालेंगे पलंग के बराबर-बराबर तुम्हें काट डालेंगे !! हमारी खाट बहुत छोटी है अगर न जम सको तो यह तुम्हारी किस्मत ही खोटी है दीर्घतर हमसे यदि दूर तक जाती हो दृष्टि - निकाल आँखे लेंगे हम कॉक की नयी आँखे बैठाकर काम तुमसे लेंगे हम हम जैसे खोटे स…